Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Breaking News

latest

गंगाघाट पुलिस ने युवक को फर्जी मुकदमा लगाकर भेजा जेल

 *सीसीटीवी फुटेज से पुलिस की खुली पोल* *पुलिस पर लगे आरोप एक लाख रुपये नही देने पर एनडीपीएस में भेजा जेल* शुक्लागंज। एक जून को शुक...


 *सीसीटीवी फुटेज से पुलिस की खुली पोल*
*पुलिस पर लगे आरोप एक लाख रुपये नही देने पर एनडीपीएस में भेजा जेल*
शुक्लागंज। एक जून को शुक्लागंज के एक युवक को गंगाघाट पुलिस ने गांजा व तमंचा लगाकर जेल भेजा था। पुलिस पर आरोप है कि युवक को पुलिस ने 31 मई को रामकली स्टेडियम से क्रिकेट खेलने के दौरान खाली हाथ 7 बजकर 25 मिनट पर गिरफ्तार किया था। जबकि पुलिस ने रात्रि 10 बजकर 55 मिनट पर कंचन नगर मोड़ से गांजा व तमंचा बरामदगी होना दर्शाकर युवक को जेल भेजा था। युवक के भाई ने आलाधिकारियों को शिकायती पत्र भेजकर इंसाफ की गुहार लगाई है।
विगत 31 मई को सीसीटीवी फुटेज के अनुसार गंगाघाट पुलिस ने नगर के रामकली स्टेडियम से शाम 7 बजकर 25 मिनट पर सर्वोदय नगर निवासी हिमांशू उर्फ राहुल तिवारी पुत्र स्व:संजय तिवारी को क्रिकेट खेलने के दौरान पकड़कर लाई थी। जिसे उसी रात एफआईआर के अनुसार दस बजकर पचपन मिनट पर कंचन नगर मोड़ से गांजा व तमंचा बरामद होना दर्शाकर एक जून को जेल भेज दिया था। जेल गए युवक के भाई रोहन तिवारी का आरोप है कि कोतवाली पुलिस के सादे कपड़े में आये पुलिस वाले ने भाई राहुल को क्रिकेट खेलने के दौरान स्टेडियम से पकड़ ले गए। उसी समय जब पुलिस से पूछा गया तो पुलिस ने बताया कि पूछताछ करके थाने से छोड़ देंगे। आरोप है कि रोहन जब थाने पहुंचा और पुलिस से पूछा साहब क्या गुनाह किया है मेरे भाई ने जिस पर पुलिस ने रोहन को भी जेल भेजने की धमकी देकर गालियां देते हुए भगा दिया। रोहन थाने के बाहर आ गया। रोहन ने बताया कि इतने में एक व्यक्ति सादे कपड़े में आया और रोहन से कहा कि अपने भाई को छुड़ाना है तो एक लाख की व्यवस्था करो तुम्हारा भाई छोड़ दिया जाएगा। जिस पर रोहन ने कहा कि क्या गुनाह किया है मेरे भाई ने इतना कहते है उक्त व्यक्ति गालियां देते हुए थाने के अंदर चले गए। रोहन के अनुसार जब सुबह कोतवाली गंगाघाट पहुंचा तो पता चला कि उसके भाई पर पुलिस ने 1 किलो 750 ग्राम गांजा व तमंचा लगा दिया है। आरोप है कि जिस समय राहुल को स्टेडियम से कोतवाली के हेड कांस्टेबल अरुण उपाध्याय, फिरोज अहमद ब कांस्टेबल हिमांशू चौधरी पकड़कर ला रहे थे उस समय राहुल के पास कुछ भी नही था। पूरी घटना सीसीटीवी में कैद है। पुलिस ने मनगढ़ंत कहानी बनाकर निर्दोष को जेल भेज दिया है। गंगाघाट कोतवाली की प्रेस नोट एक जून के अनुसार युवक के पास एक अदद तमंचा 12 बोर तथा एक किलो 750 ग्राम नाजायज गांजा बरामद होना दर्शाया गया है। गिरफ्तारी करने वाली टीम में  दारोगा श्रीमती प्रेमवती यादव हेड कॉन्स्टेबल अरुण उपाध्याय, फिरोज अहमद कांस्टेबल कुबेश गुप्ता, हिमांशू चौधरी की मौजूदगी रही। जबकि सीसीटीवी फुटेज से पुलिस की कथनी और करनी में बहुत अंतर है। गिरफ्तार युवक के भाई रोहन तिवारी ने मुख्यमंत्री के अलावा आईजी,डीजीपी,प्रमुख सचिव गृह को शिकायती पत्र भेजकर इंसाफ की गुहार लगाई है। पीड़ित ने पत्र के माध्यम से इंसाफ नही मिलने पर आत्महत्या करने पर मजबूर होने की बात कही है। अब देखना यह होगा कि जांच के बाद क्या कार्यवाही होती है।




No comments