Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Breaking News

latest

टाइगर का हमला

फारूख हुसैन उत्तर प्रदेश के तराई इलाकों के लखीमपुर खीरी जिले के इंडो नेपाल सीमा पर मौजूद दुधवा टाइगर रिजर्व के जंगलो को कुछ वनाधिकारियों की ...




फारूख हुसैन



उत्तर प्रदेश के तराई इलाकों के लखीमपुर खीरी जिले के इंडो नेपाल सीमा पर मौजूद दुधवा टाइगर रिजर्व के जंगलो को कुछ वनाधिकारियों की मिलीभगत से जंगलों के लगातार कटान से वन्यजीवों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं जिससे जंगलों में ना रुक कर वह आबादी की ओर अपना रुख करते नजर आ रहे हैं बाघों को मनुष्य का शिकार करने में बहुत आसानी हो जाती है जिससे वह खेतों में छिपकर मनुष्यों को अपना शिकार बनाते हैं यह सब देखने और जानने के बावजूद वन विभाग इन सब मामलों को देखते हुए भी अपनी जिम्मेदारियों से भागता नजर आ रहा है । जिसका खामियाजा जंगल के आसपास गांव में रहने वाले ग्रामीण अपनी जान देकर भुगत रहे हैं ।

कुछ इसी तरह का मामला एक बार फिर सामने आया है जहां पर दुधवा टाइगर रिजर्व के जंगलों के किनारे बसे एक गांव में खेतों में खाद डाल रहे किसानों पर गन्ने के खेत में छुपे बाघ ने हमला कर गंभीर रूप से घायल कर दिया, शोर सुनकर बामुश्किल ग्रामीणों के द्वारा बाघ से उनकी जान बचाई गई,लेकिन बाघ के इस हमले से गांव में दहशत का माहौल दिखाई दे रहा है ।

दरअसल पूरा मामला लखीमपुर खीरी जिले के वनरेंज मैलानी के ग्राम छेदीपुर का बताया जा रहा है 
बताया जा रहा है कि घायल किसान हंसराम अपने भाई रामकिशन के साथ अपने परिवार को लेकर खेतों में ही घर बनाकर रहते थे ।जहां पर बीती शाम पांच बजे के लगभग हंसराम अपने भाई राम किशन और उसके सत्रह वर्षीय बेटे गुलशन के साथ घर के नजदीक ही गन्ने के खेत मे खाद डाल रहे थे कि वहीं गन्ने के खेत मे छुप कर बैठे बाघ ने उन तीनों पर हमला कर दिया, चीख-पुकार सुनकर आसपास के लोग दौड़कर आ गए ग्रामीणों को देख बाघ वहां से खेतों में भाग गया । लेकिन बाग के इस हमले से तीनों गंभीर रूप से घायल हो गए आनन-फानन में ग्रामीणों ने घटना की सूचना वन अधिकारियों और पुलिस को दी जिससे सभी मौके पर पहुंच गए। वही मौके पर पहुंचे वन अधिकारियों ने एंबुलेंस की सहायता से तीनों को सीएचसी गोला भेजा जहां चिकित्सकों ने उनका प्राथमिक उपचार कर हालत को गंभीर देखते हुए जिला अस्पताल रेफर कर दिया ।वहीं मौके पर पहुंचे दुधवा टाइगर रिजर्व के डीएफओ राजेश कुमार ने अपने वन विभाग की टीम के साथ गांव के किनारे स्थित गन्ने के खेत में बाघ को पकड़ने के प्रयास शुरू कर दिया है। 




No comments