Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Breaking News

latest

मुजफ्फरनगर में शराब ओवर रेटिंग रोकने में आबकारी विभाग नाकाम, बेखौफ सेल्समैन कर रहे हैं ओवर रेटिंग

मुज़फ्फरनगर ।शराब की ओवर रेटिंग रोक लगाने में मुज़फ्फरनगर आबकारी विभाग लागातर नाकामयाब शाबित हो रहा है। विभागि के अधिकारियों की मिलीभगत कहे या...


मुज़फ्फरनगर ।शराब की ओवर रेटिंग रोक लगाने में मुज़फ्फरनगर आबकारी विभाग लागातर नाकामयाब शाबित हो रहा है। विभागि के अधिकारियों की मिलीभगत कहे या लापरवाही कहे मगर  धड़ल्ले से चल रहा ओवररेटिंग के खेल इसको लेकर लेकर उत्तर प्रदेश के अाबकारी मंत्री रामनरेश अग्निहोत्री भले ही सोशल मीडिया के सहारे लोगों को जागरुक कर रहे हों लेकिन मुज़फ्फरनगर के अधिकारी है कि उनकी कानों में जूं तक नहीं रेंगती। शराब की दुकानों के सेल्समैन बेखौफ होकर नियमों को ताक पर रख कर शराब की बिक्री कर रहें हैं।

आबकारी विभाग के अधिकारियों की मिली भगत कहे या लापरवाही मगर धड़ल्ले चल रहे ओवर रेटिंग के खेल को रोकने के भले ही उत्तर प्रदेश के आबकारी मंत्री रामनरेश अग्निहोत्री कितने ही जतन कर लें लेकिन ओवर रेंटिंग पर लगाम लगती दिखाई नहीं दे रही है। अफसर सिर्फ दिखावे के लिए कार्रवाई करते हैं। इस अर्थदंड की कार्रवाई का उन्हें कोई भय नहीं दिखता, क्योंकि प्रतिदिन वह लाखों रुपये की ओवर रेटिंग कर लेते हैं। उत्तर प्रदेश आबकारी मंत्री रामनरेश अग्निहोत्री और आबकारी विभाग लगाम कसने में लगे हों लेकिन ओवर रेटिंग नहीं रोक पा रहे हैं। हर दूसरे दिन शराब की ओवररेटिंग को लेकर शिकायतें आती हैं, जिनके समाधान में मंत्री जुटे रहते हैं। पिछले दिनों उन्होंने ओवर रेटिंग रोकने के लिए अभियान भी चलाया था, मगर नतीजा वही ढाक के तीन पात रहा। मुजफ्फरनगर में खुलेआम ओवर रेटिंग हो रही है, मगर उसे रोकने के कोई प्रयास नहीं हो रहे हैं। यूं तो पूरे जिले में ही शराब की ओवर रेटिंग हो रही है। 

सेल्समैन धड़ल्ले से ओवर रेटिंग करते हैं और प्रशासन मूकदर्शक बना रहता है। ऐसा नहीं है कि आबकारी विभाग इन सब गतिविधियों से अनभिज्ञ है, मगर वह जानबूझ कर आंखें मूंदे रहता है। ऐसा लगता है कि लाखों रुपये की ओवर रेटिंग की बंदरबांट में सब शामिल रहते हैं। आबकारी विभाग के इंस्पेक्टर से लेकर आबकारी अधिकारी तक का रटा रटाया बयान रहता है कि शिकायत मिलती है तो वह कार्रवाई करते हैं। लेकिन आज तक ओवर रेटिंग पर किसी का लाइसेंस निलंबित नहीं हुआ, जबकि ओवर रेटिंग रोज होती है। आखिर ऐसी कार्रवाई का क्या फायदा? जिससे ओवर रेटिंग न रुक सके। दरअसल आपको बता दें कि आज का यह मामला भोकरहेड़ी कस्बा जनपद मुजफ्फरनगर की देसी शराब की दुकान से जुड़ा है जहां पर सेल्समैन धड़ल्ले से प्रत्येक ग्राहकों के साथ ओवर बैटिंग कर रहा है ₹70 में मिलने वाला देसी का पव्वा 75 से ₹80 में दिया जा रहा है और आपकी जानकारी के अनुसार और आपको बता दें कि अब से लगभग 1 माह पूर्व भी ओवर रेटिंग से जुड़ी भोकरहेड़ी की खबर चल चुकी है मगर आबकारी विभाग आंख बंद किए हुए बैठा है मानो लगता है कि ओवर रेटिंग का यह खेल किसी के इशारों पर हो रहा हो।


अब देखना यह होगा कि खबर दो बार प्रकाशित होने के बावजूद कस्बा भोकरहेड़ी तहसील जानसठ जनपद मुजफ्फरनगर आबकारी विभाग कार्यवाही कर पाता है या फिर ऐसे ही होती रहेगी धड़ल्ले से शराब पर ओवर रेटिंग


संवाददाता संजय कुमार 8630892689 मुज़फ्फरनगर



No comments