Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Breaking News

latest

टॉपर के हौसले को निस्वार्थ फाउंडेशन ने दिया पंख

इंटरमीडिएट में जिला टॉपर को निस्वार्थ फाउंडेशन ने किया सम्मानित *अंग वस्त्र सैनिटाइजर मास्क के साथ नीट की पुस्तक भेंट कर बढ़ाया हौसला।...


इंटरमीडिएट में जिला टॉपर को निस्वार्थ फाउंडेशन ने किया सम्मानित

*अंग वस्त्र सैनिटाइजर मास्क के साथ नीट की पुस्तक भेंट कर बढ़ाया हौसला।*

बलरामपुर। प्रतिभा किसी की मोहताज नहीं होती है। कुछ ऐसे ही प्रतिभा के धनी उतरौला के मनकापुर रोड के लालगंज  निवासी इंटरमीडिएट। यूपी बोर्ड के जिला टॉपर! हर्ष जयसवाल है। जिन्हें सामाजिक संस्था निस्वार्थ फाउंडेशन ने! अपने सामाजिक कार्यों में एक और नया अध्याय जोड़ते हुए यूपी बोर्ड में टॉपर आने वाले स्कॉलर्स एकेडमी उतरौला के प्रतिभाशाली छात्र हर्ष जयसवाल को जिले में सर्वोच्च अंक लाने पर सम्मानित किया है। निस्वार्थ फाउंडेशन के अगुआ रविंद्र कमलापुरी  वरिष्ठ पत्रकार डॉक्टर अविनाश पांडे, अनुराग रस्तोगी, पत्रकार नीलमणि तिवारी, पत्रकार नरेंद्र पटवा, शादाब खान आदि निस्वार्थ फाउंडेशन के पदाधिकारियों  ने यूपी बोर्ड इंटरमीडिएट के टॉपर हर्ष जयसवाल को अंग वस्त्र सैनिटाइजर मास्क के साथ नीट की किताब भेंट कर सम्मानित किया है। संस्था पदाधिकारी की माने तो फाउंडेशन का मुख्य उद्देश्य समाज में उत्कृष्ट कार्य करने वाले प्रतिभाओं को सम्मानित करके उनके प्रतिभा से लोगों को सीख लेने के लिए प्रेरित करना है। इसी उद्देश्य के तहत इस प्रतिभाशाली टॉपर छात्र को। निस्वार्थ फाउंडेशन ने सम्मानित करके उसके उज्जवल भविष्य की कामना की है। इस दौरान टॉपर के परिजन ने बेटे को सम्मानित होने पर निस्वार्थ फाउंडेशन के सभी पदाधिकारियों को धन्यवाद दिया है। टॉपर हर्ष जयसवाल के पिता मनोज कुमार जयसवाल प्राइमरी स्कूल में शिक्षक है। यह प्राथमिक विद्यालय इमिलिया में तैनात है। बेटे के उपलब्धि पर बाबा राम छबीले जयसवाल, चाचा राहुल जयसवाल डॉक्टर दिनेश जयसवाल, महेश जयसवाल, मुकेश जयसवाल, रमेश जायसवाल के साथ-साथ। उनकी मां सविता जयसवाल एवं बहन अर्पिता जयसवाल ने खुशी जाहिर करते हुए निस्वार्थ फाउंडेशन के इस कार्य की सराहना की है। प्रतिभाशाली जिले के टॉपर हर्ष जयसवाल ने निस्वार्थ फाउंडेशन को बताया  कि वह चिकित्सा क्षेत्र में जाना चाहते हैं। उनका मुख्य उद्देश्य एमबीबीएस डॉक्टर बनकर समाज की सेवा करना है। यही उनके माता-पिता एवं परिजनों का सपना भी है। जिसे वह बोर्ड परीक्षा की भांति। नीट परीक्षा उत्तीर्ण कर सफल होकर परिजनों सहित जिले का नाम रोशन करने में जुट गए हैं।





No comments