Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Breaking News

latest

सरकारी अस्पताल में मरीजों को खुद खींचना पड़ता स्ट्रेचर

संवाददाता पुनीत दिक्षित *इटावा* उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लगातार स्वास्थ्य व्यवस्था को सुधारने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन जन...


संवाददाता पुनीत दिक्षित



*इटावा* उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लगातार स्वास्थ्य व्यवस्था को सुधारने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन जनपद में स्वास्थ्य व्यवस्था सुधरती हुई दिखाई नहीं दे रही है यहां वार्ड बॉय और डॉक्टर अपनी जिम्मेदारी को बखूबी निभाते हुए दिखाई नहीं दे रहे हैं और अपनी मनमानी से बाज भी नहीं आ रहे हैं। जिला अस्पताल में ऐसा ही एक मामला आज सुबह देखने को मिला जब 108 एंबुलेंस से मानिकपुर गांव से महिला मरीज के साथ उसके महिला परिजन आई हुई थी। जिसमें जिला अस्पताल पहुंचने के बाद महिलाओं ने एंबुलेंस से जब मरीज को उतारने के लिए वहां के कर्मचारियों से कहा तो उन्होंने खुद ही महिला मरीज को इमरजेंसी वार्ड तक ले जाने के लिए कह दिया। फिर क्या था मजबूरी का नाम महात्मा गांधी सच होती दिखाई दी।
महिला मरीज परिजनों ने स्ट्रेचर को लिया और 108 एंबुलेंस से महिला मरीज को उतारकर स्ट्रेचर पर रख के इमरजेंसी वार्ड की तरफ ले जाने लगी।
महिला परिजन पल्लवी और मुन्नी देवी ने बताया कि उनको किसी भी तरह की मरीज को एंबुलेंस से इमरजेंसी तक ले जाने में कोई मदद नहीं मिली और खुद ही इमरजेंसी वोट तक ले जाना पड़ा।

सीएमओ एनएस तोमर से इस संबंध में जब बात की गई तो उन्होंने इस मामले पर तुरंत संज्ञान लेते हुए स्टाफ को हिदायत दी ।
वही सीएमओ द्वारा जानकारी दी गई की अभी तक इमरजेंसी वार्ड में एक ही वर्ड बॉय नियुक्त था आज से एक और वार्ड बॉय नियुक्त कर आगे इस तरह की कोई भी लापरवाही नहीं दिखाई पड़ेगी।




No comments