Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Breaking News

latest

जहरीला ई जेक्शन देने युवक की मौत।

रिपोर्टर सोनू दुबे। उत्तर प्रदेश के जनपद कासगंज में आज एक निजी अस्पताल में उस समय हड़कंप मच गया जब फ़िल्मी स्टाइल में एक अस्पताल क...



रिपोर्टर सोनू दुबे।





उत्तर प्रदेश के जनपद कासगंज में आज एक निजी अस्पताल में उस समय हड़कंप मच गया जब फ़िल्मी स्टाइल में एक अस्पताल के आईसीयू  में भर्ती मरीज के फर्जी रिश्तेदार बन कर डॉक्टर के भेष में आये कुछ लोगों ने ज़हरीला इंजेक्शन लगा कर मरीज़ को मारने का प्रयास किया। लेकिन मेडिकल स्टाफ की तत्परता से दो लोगों को दबोच लिया गया तो वहीं बाकी के साथी भागने में सफल रहे। पकड़े गए दोनों लोगों की जेब से जहरीला इंजेक्शन भी पुलिस ने बरामद किये हैं। वही हॉस्पिटल संचालक की तरफ से पांच नामजद लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया है।

कासगंज।जनपद में एक निजी अस्पताल में भर्ती मरीज के रिष्तेदार बनकर आये फर्जी चिकित्सक ने आईसीयू वार्ड में घुसकर एक मरीज को इंजेक्षन लगाकर जान लेने का प्रयास किया।हालांकि मरीज और स्टाप की सूझ-बूझ से अंजाम देने आये पांच कार सवारों के मंसूबे धरासाई ही नहीं हुए, बल्कि रफ्तार कर पुलिस के सुपुर्द कर दिया, जबकि तीन युवक भगाने में सफल रहे। हाॅस्पीटल संचालक ने पुलिस को तहरीर देकर चार नामजद सहित पांच लोगों के खिलाफ अभियोग दर्ज कराया है।

मरीज के इंजेक्षन लगाकर जान लेने का मामला कासगंज के कृष्णा हाॅस्पीटल का है। बताया जा रहा है कि 20 जुलाई की मध्यरात्रि में पांच युवक इमेज कार संख्या डीएलओटीसी 0020 में सवार होकर आ गये।जिनमें से दो युवक सीधे आईसीयू वार्ड में पहंुच गए और विजेन्द्र नाम के मरीज की फाइल में मेडिसन चार्ट पर एनाबिन इंजेक्षन पांच एमएल 9ः30 बजे लिखकर चढा दिया। साथ ही स्वयं मरीज को लगाने लगे।इतने में स्टाॅप और मरीज के तीमरदारों ने रूक लिया। साथ ही दोनों लोग गाली गलौज करने लगे।बाद में दोनों का तीमरदार और हाॅस्पीटल स्टाॅप ने दबोच कर पुलिस के सुपुर्द कर दिया। साथ ही उनकी जेबो से चार इंजेक्षन भी बरामद हुए जिन्हे पुलिस के सुपुर्द कर दिये गए।बताया जा रहा है कि इंजेक्षन लगने से मरीज की मौत हो जाती है। यह जिम्मा हाॅस्पीटल संचालक के ऊपर षातियाना तरीके से सौपा जा सकता था।

हथौडावन के मरीज की जान लेने का प्रयास

मरीज के दामाद प्रवीन की माने तो उसके ससुर विजेन्द्र सिंह निवासी हथौडावन थाना पटियाली 16 जुलाई को छत से गिर गए थे। गंभीर हालत होने के कारण उनका उपचार चल रहा था।इसी बीच रिष्तेदार बनकर मौत का इंजेक्षन लगाने आये दोनों व्यक्तियों को पकड लिया। गिरफ्त में आये युवको ने अपना नाम प्रमोद और तथाकथित डाॅ.ष्षांतनु चैधरी निवासी अमांपुर बताया है, जबकि हरिओम चैधरी और अरूण कुमार उर्फ रवि सहित एक अन्य व्यक्ति अपने आपको घिरता देखकर फरार हो गए।





No comments