Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Breaking News

latest

पवित्र श्रावण मास में बाबा दुग्धेश्वर नाथ का जलाभिषेक-देवरिया।

रिपोर्ट - रामाश्रय त्रिपाठी  पवित्र श्रावण मास के पहले सोमवार को रुद्रपुर नगर स्थित बाबा दुग्धेश्वर नाथ को छोटी काशी के रूप में कह...



रिपोर्ट - रामाश्रय त्रिपाठी




 पवित्र श्रावण मास के पहले सोमवार को रुद्रपुर नगर स्थित बाबा दुग्धेश्वर नाथ को छोटी काशी के रूप में कहे जाने वाले मन्दिर में पूजा अर्चन के लिए भोर से ही श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी,शिव भक्तों के हरहर महादेव के जयघोष से शिवालय गूँज उठा। वही कोरोना काल में सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर डीएम के आदेशों की धज्जियां उड़ती नजर आ रही हैं।

गौरतलब है देवरिया जनपद की थाना रुद्रपुर में स्थित छोटी काशी के रूप में विख्यात बाबा दुग्धेश्वर नाथ महादेव मन्दिर में काेराेना वायरस के आतंक के बीच पवित्र श्रावण मास माह के प्रथम सोमवार को भक्ताें की भीड़ उमड़ रही है। लाेगाें की आस्था पर काेराेना का काेई असर नहीं दिख रहा है। हालांकि आज सोमवार काे बाबा दुग्धेश्वर नाथ महादेव मंदिर में हर दिनों के सावन के महीनों की तरह कांवरियों और श्रद्धालुओं की भीड़ नही जुट पाई। दर्शन-पूजन के साथ जल चढ़ाने के लिए सुबह से शाम तक भक्ताें की लाइन दिख रही थी। लेकिन कोरोना काल में मंदिर में पूरी आस्था के साथ श्रद्धालु बाबा भोलेनाथ की पूजा में लीन दिखे।
बताया जाता है कि सावन के महीनों को लेकर जिलाधिकारी ने पुजारियों सेे सिर्फ 5 लोगो को मंदिर में प्रवेश के निर्देश दिये थे। लेकिन एक दिन पहले ही मन्दिर का मुख्य दरवाजा बंद हो गया,श्रद्धालु मन्दिर के दरवाजे पर ही जलाभिषेक कर वापस चले जा रहें हैं वही मन्दिर में सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियाँ उड़ाई जा रही है।

वही जलाभिषेक करने आये श्रद्धालु ओम नमो नारायण ने बताया कि कोरोना काल मे भक्त गण गेट पर जल चढ़ा करके पूजा कर रहे हैं,कोरोना का जो व्यवस्था होना चाहिए वो व्यवस्था सही रूप से नही हो रहा है,प्रशासन द्वारा यहाँ व्यवस्था अधूरी रूप से है।

इस बाबत मन्दिर के महन्थ विजय शंकर ने बताया कि कोरोना काल की वजह से मंदिर का फाटक बंद करवा दिया गया है अतः भक्त गण मन्दिर में पूजा-अर्चना नही कर पा रहें हैं,जबकि श्रावण के पहले सोमवार के दिन भगवान शिव को बेलपत्र और जलाभिषेक करने से बहुत बड़ा पुण्य मिलता है,पहले मीटिंग में हुआ कि सोशल डिस्टेंसिंग और मॉस्क लगा करके मन्दिर को खोला जाएगा,लेकिन रात में डिसीजन लिया गया की मन्दिर को सोमवार के दिन बंद कर दिया जाय और बाकी दिन खुलेगा।


No comments