Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Breaking News

latest

ज्ञान की जो रोशनी है उसमे ही तो ज़िन्दगी है

ज्ञान की जो रोशनी है उसमे ही तो ज़िन्दगी है डिजिटल उत्सव सामाजिक जागरूकता का तीसरा दिन  शिक्षा को बढ़ावा,कथक लखनऊ की धरोहर,महिला सशक्...



ज्ञान की जो रोशनी है उसमे ही तो ज़िन्दगी है

डिजिटल उत्सव सामाजिक जागरूकता का तीसरा दिन

 शिक्षा को बढ़ावा,कथक लखनऊ की धरोहर,महिला सशक्तिकरण,पर्यावरण संरक्षण,नारी अस्तित्व सुरक्षा एवं देशप्रेम पर हुई लाइव प्रस्तुतियां

हैदराबाद की सिद्धि द्विवेदी ने लड़कियों को बेखौफ होकर रहने पर प्रेरित किया

लखनऊ। कोरोनावायरस के संक्रमण के दौरान  जब लोग अपने घरों में ज्यादातर रह रहे हैं  तो ऐसे में  संस्कृति एवं सामाजिक जागरूकता को बढ़ावा देने के उद्देश्य से डिजिटल उत्सव सामाजिक जागरूकता  के तीसरे दिन  ज्वलंत मुद्दों पर  बाल कलाकारों ने  अंजली फिल्म प्रोडक्शन के पेज पर  लाइव प्रस्तुतियां दी ।
बारह वर्षीय वैष्णवी शुक्ला ने शिव वंदना के साथ अपनी प्रस्तुति शुरू की। इसके बाद देशभक्ति से ओतप्रोत ए वतन मेरे वतन आबाद रहे तू पर देश प्रेम को प्रकट किया। इसी कड़ी में ही कोरोना संक्रमण पर आधारित गीत इस ज़माने में इस कोरोना ने कितने लोगों की जान ली है पर नृत्य एवम एक्ट के माध्यम से पर्याप्त दूरी बनाकर रहने पर दर्शकों से आवाहन किया।
सान्वी श्रीवास्तव ने भारतीय संस्कृति को दर्शाते हुए गीतों पर कथक विधा में प्रस्तुति दी। मा सरस्वती की वंदना के साथ जहां डाल डाल पर सोने की चिड़िया करती है बसेरा पर कथक एवं सदाबहार गीत पिया तोसे नैना लागे रे पर कथक में नृत्य प्रस्तुत किया । अपने सभी प्रस्तुतियां को कथक रूप में प्रस्तुत करके सान्वी ने कथक लखनऊ की धरोहर के रूप में प्रदर्शित किया।

मन्नत अशरफ शेख ने शिक्षा को बढ़ावा देने की थीम पर दर्शकों को एजुकेशन की ज़रूरत के बारे में बताया एवं ज्ञान की जो रोशनी है उससे ही ज़िन्दगी,एवं दीप शिक्षा के जलाएंगे हम पर एक्ट एवं नृत्य प्रस्तुत करके दर्शकों से शिक्षा को बढ़ावा देने का आवाहन किया।
हैदराबाद से सिद्धि द्विवेदी ने महिला सशक्तिकरण पर आधारित एक से बढ़कर एक प्रस्तुतियां दी क्योंकि आज भी कहीं ना कहीं लड़कियों का बाहर के माहौल में निकलना काफी मुश्किल भरा होता है लेकिन उन मुश्किलों से भी कैसे आगे बढ़कर सफलता प्राप्त करनी है इसी मुद्दे को सिद्धि द्विवेदी ने ममता भी तू क्षमता भी तू बेखौफ आजाद है रहना मुझे कैसी धाकड़ है धाकड़ है एवं या देवी सर्वभूतेषु पर अपनी प्रस्तुति दी।
गोंडा से अविका सुरभित ने पेड़ ही जीवन है एवं पर्यावरण संरक्षण पर नृत्य के माध्यम से अपना संदेश दिया एवं उसके बाद  संगीत नृत्य को समर्पित फिल्मी गानों पर प्रस्तुति दी। साढ़े तीन वर्ष की राध्या सिंह ने घर का हेल्थी खाना ही खाने का पोस्टर लेकर स्वस्थ खाओ तन मन जगाओ का संदेश दिया

लाइव सेशन का संचालन आनंद किशोर चौधरी कर रहे है जिसमे संदीप उपाध्याय टेक्निकल सपोर्ट में है।कार्यक्रम प्रभारी अर्चना पाल ने बताया कि अभी दो दिन और दोपहर एक बजे से शाम चार बजे तक अंजली फ़िल्म प्रोडक्शन्स के फेसबुक पेज पर विभिन्न सामाजिक जागरूकता थीम पर लाइव आयोजन होंगे।





No comments