Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Breaking News

latest

योगी राज में हिन्दू बस्तियों की अनदेखी,

                उच्च अधिकारियों के अनुसार सचिव है जिम्मेदार,        सचिव को नही है सरकार या प्रशासन का डर,            सचिव की मिली भगत से ह...

         



      उच्च अधिकारियों के अनुसार सचिव है जिम्मेदार,        सचिव को नही है सरकार या प्रशासन का डर,            सचिव की मिली भगत से हिन्दू बस्तियों में महामारी फैलने का खतरा,                         मुजफ्फरनगर! भाजपा के राज में शाहबुद्दीनपुर के  मुस्लिम ग्राम प्रधान नियाजुपुरा निवासी नूर हशन नहीं करा रहा है हिंदू बस्तियों में विकास कार्य जनता के साथ किया जा रहा है खुलकर भेदभाव,

 
जी हां स्वच्छ भारत अभियान और विकास कार्यों की खुलेआम उड़ाया जा रहा मख़ौल मुज़फ्फरनगर में विकास कार्यो की उड़ती धज्जियो की ग्राम वासियों ने खोली पोल, उन्होंने आरोप लगाते हुए बताया कि ग्राम प्रधान से क्षेत्रीय समस्या के समाधान हेतु कई बार मुलाकात की गई मगर ग्राम प्रधान का साफ तौर पर कहना है कि मुझे तुम्हारे क्षेत्र से कोई वोट नही मिली और न मुझे वहाँ से वोट चाहिए जिसके चलते मुस्लिम ग्राम प्रधान ने सरकार की महत्वकांशा योजनाओं के बावजूद भी नहीं कराया जा रहा है हिंदू बस्तियों में कोई काम क्षेत्र की स्थित देखी जाए तो गलियों में फूरी तरह पानी सड़को पर बह रहा है। और बिजली की नंगी तारे गलियों के बीच झूल रही है। जिसके चलते यहाँ कभी भी भयानक स्थिति का सामना करना पड़ सकता है।

 
दरअसल मामला उत्तर प्रदेश के जनपद मुजफ्फरनगर का है जहां केंद्र या राज्य में भाजपा सरकार है तो वही भाजपा के राज में हो रहा है जातिगत भेदभाव ऐसा ही एक मामला सदर ब्लॉक की ग्राम पंचायत शाबुद्दीनपुर का है जहां ग्रामीणों ने ग्राम प्रधान नूर हसन पर आरोप लगाते हुए बताया कि वोट ना देने के चलते ग्राम प्रधान नूर हसन ने हिंदू बस्तियों में कार्य नहीं कराया है जिसके चलते हम लोग काफी परेशान हैं और आए दिन कठिनाइयों का सामना करते रहते हैं जहां स्वच्छ भारत अभियान के तहत गांव-गांव में पक्की सड़कें करने का सरकार दावा करती है मगर नूर हसन ग्राम प्रधान के गांव की हिंदू बस्तिया सरकार के दावों की पोल खोल रही है यह गंदगी भरी सड़कें वही ग्राम वासियों में ग्राम प्रधान के साथ-साथ अधिकारियों के प्रति भी नाराजगी देखने को मिली वही ग्राम प्रधान से मीडिया टीम ने साक्षात्कार करते हुए उक्त संबंध में वार्ता करने की कोशिश की तो ग्राम प्रधान नूर हसन ने कैमरे पर आने से कर दिया साफ इनकार, वही जब इस गंभीर समस्या के संबंध में जनपद के मुख्य विकास अधिकारी आलोक यादव से वर्जन लेने के संबंध में बात करने की कोशिश की गई तो उन्होंने भी गैर जिम्मेदाराना बयान देते हुए कहने लगे की संबंधित सचिव से बात करें। जब विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों से कोई संतोष जनक जवाब नही मिला तो इस विषय में सम्बंधित सचिव विनय त्यागी से बात की गई तो उन्होंने भी वर्जन को लेकर साफ कह दिया कि मैं इस बारे में कुछ भी आधिकारिक ब्यान नहीं दे सकता। किसी भी टिप्पणी पर ग्राम विकास अधिकारी का कहना है कि वर्तमान में केवल शौचालय के कार्यो पर  फोकस है। और ऊपर से ही बाकी कार्य पर लगा रखी है अभी रोक जल्द ही कोई प्रभावी कार्यवाही नही हुई तो उक्त बस्तियों में महामाई फैलने का अंदेशा है जिससे जनपद में बहुत भयावह स्थिति देखने को मिल सकती है। अब देखना होगा ये मामला सरकार के संज्ञान में आने के बाद भी सम्बंधित अधिकारी देंगे इस और ध्यान या फिर चलता रहेगा रहेगा यूंही सब कुछ राम भरोसे इस बारे में अभी कुछ भी कहना जल्द बाजी होगी। 




 ब्यूरो रिपोर्ट संजय कुमार मुजफ्फरनगर उत्तर प्रदेश



No comments