Skip to main content

अलीगढ़, ऑनलाइन नौकरी के नाम पर ठगी करने वाले गिरोह के तीन ठगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार, कब्जे से लैपटॉप कंप्यूटर सीडी मोबाइल, चिपकार्ट किया बरामद





 अलीगढ़ पुलिस ने नौकरी के नाम पर लोगों से मोटा पैसा वसूलने वाले ठगी के गिरोह का पुलिस ने पर्दाफाश करते हुए तीन लोगों को गिरफ्तार कर बड़ा खुलासा किया है। जनपद अलीगढ़ के अंदर जहां बेरोजगार युवक युवतियां से नौकरी लगाने के नाम पर इंटरव्यू प्रोसेस फीस आदि का झांसा देकर बेरोजगार युवक-युवतियों से फर्जी वेबसाइट चलाकर लोगों से फर्जी बैंक खातों के अंदर रुपया ट्रांसफर कराया जाता था। लोगों के साथ हुई ठगी के बाद जब पैसा वसूलने के बाद भी नौकरी नहीं मिली तो लोगों ने ठगी करने वाले गिरोह के खिलाफ पुलिस थाने के अंदर शिकायत दर्ज करनी शुरू कर दी।

अलीगढ़ के थाना क्वार्सी पुलिस ने ऑनलाइन नौकरी के नाम पर ठगी करने वाले तीन शातिर अपराधियों को गिरफ्तार किया है । तीनो लोग ऑनलाइन ठगी कर नौकरी दिलाने का गोरख धंधा करते थे। क्वार्सी क्षेत्र की रहने वाली महिला गुरजीत कौर की शिकायत पर खुलासा किया गया।

अलीगढ़ के थाना क्वार्सी क्षेत्र की रहने वाली गुरजीत कौर नाम की महिला के साथ नौकरी के नाम पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के बाद उसके साथ फ्रॉड हुआ है। 22 जुलाई से 27 जुलाई के बीच यह फ्रॉड हुआ था। जिसके बाद गुरजीत कौर ने थाना क्वारसी के अंदर तहरीर देते हुए मुकदमा दर्ज कराया था। महिला द्वारा मुकदमा दर्ज करने के बाद स्थानीय पुलिस ने जब इस पूरे मामले में विवेचना शुरू की तो उसके बाद अलीगढ़ पुलिस ने फर्जी वेबसाइट चलाने वाले कॉल सेंटर पर छापा मारते हुए लोगों के साथ ठगी करने वाले तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया। जहां इस संबंध में 3 व्यक्तियों की गिरफ्तारी की गई है। जिसमें 2 हाथरस और 1 हमीरपुर का रहने वाला है। यह लोग नोएडा में प्राइम सॉल्यूशन के नाम से कॉल सेंटर चलाते थे। नौकरी दिलाने वाली वेबसाइटों से बेरोजगार युवाओं का डाटा प्राप्त कर इन युवाओं को कॉल करके अपने जाल में फंसाते थे। इसके बाद अलग अलग तरीके से झांसा देकर इंटरव्यू, बैंक अकाउंट एवं अन्य कई कामों के नाम पैसा ठगा करते थे। पुलिस द्वारा पकड़े गए इन शातिरों से एकाउंट डिटेल्स और अन्य लोगों के साथ किये गए फ्रॉड की जानकारी की जा रही है।

जिंदगी भर लोग पैसा कमाने के लिए जी तोड़ मेहनत करने के बाद दिन रात एक कर देते हैं। तब जाकर एक-एक पाई जोड़कर कुछ रकम जमा होती है। जहां इसी रकम को लेकर ठगी का शिकार करने वाले लोग वर्षों की जोड़ी हुई रकम को अपने जाल में फंसाने के बाद लोगों को चूना लगाकर नौकरी के नाम पर झांसा देने के बाद ऑनलाइन ठगी का शिकार बना लेते हैं। ऐसे ही लोगों के साथ ठगी करने वाले एक गिरोह का अलीगढ़ पुलिस ने खुलासा करते हुए शातिर ठगों को गिरफ्तार किया है।

जहां लोगों को अपनी ठगी का शिकार बनाने वाले गिरोह का खुलासा कर गिरफ्तार करते हुए। नगर पुलिस अधीक्षक अभिषेक सिंह जानकारी देते हुए बताया कि विष्णुपुरी थाना क्वारसी क्षेत्र की रहने वाली गुरजीत कौर द्वारा थाने के अंदर एक शिकायत दर्ज कराई थी। जिसमें 22 जुलाई से 27 जुलाई के बीच महिला गुरजीत कौर ने अपने अकाउंट से रुपए ट्रांसफर किए थे। जहां गुरजीत कौर ने naukri.com के अंदर नौकरी के लिए रिज्यूम भेजा गया था। जिसके बाद नौकरी डॉट कंपनी के द्वारा महिला गुरजीत कौर के पास फोन करके रुपयों की डिमांड की गई थी। जिसमें महिला से अकाउंट लिंक करना प्रोसेसिंग फीस के नाम पर रुपए वसूले गए। जिसमें करीब 23 लाख रुपया गुरजीत कौर से नौकरी डॉट कंपनी के लोगों द्वारा अकाउंट में ट्रांसफर करा लिए गए। जिसके बाद पैसा ना मिलने पर महिला ने क्वार्सी थाने के अंदर तहरीर देकर महिला द्वारा मुकदमा दर्ज कराया था।

पुलिस द्वारा ठगी करने वाले तीनों युवक जिसमें अभिषेक चौहान, तेज प्रताप सिंह, रणवीर यादव को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। जिसमें दो युवक हाथरस और एक जनपद हमीरपुर का रहने वाला है। पकड़े गए तीनों युवक बेरोजगार युवक-युवतियों से फर्जी कॉल सेंटर चलाकर वेबसाइट shine.com,monster.com वेबसाइट के नाम से चलाते थे। उसी के आधार पर बेरोजगारी व्यक्तियों के जो रिज्यूम के आधार पर नौकरी लगाने के नाम पर लोगों को झांसा देकर लोगों से फोन करने के बाद अकाउंट की डिटेल मांगी जाती थी। जिसके बाद प्रोसिस फीस के नाम पर फर्जी बैंक खातों के अंदर लोगों से रुपए डलवाए जाते थे। पुलिस ने पकड़े गए आरोपियों के पास से 5 मोबाइल फोन, 8 सिम कार्ड, 6 सीपीयू,6 डेक्सटॉप,6 एटीएम कार्ड,क्रेडिट कार्ड,4 आधार कार्ड,1 वोटर आईडी कार्ड,5 हेडफोन,1 वाईफाई डोंगल,1 राउटर,4 यूपीएस,2 कॉपी और 1 डायरी पुलिस ने फर्जी कॉल सेंटर से बरामद की है। वहीं पुलिस द्वारा पकड़े गए आरोपियों का रिकॉर्ड भी तलाशा जा रहा है पकड़े गए आरोपी फर्जी अकाउंट खुलवाने के लिए आधार कार्ड पर दूसरे युवक का फोटो लगाकर फर्जी आईडी बनाते हुए बैंक के अंदर अकाउंट खुलवाए जाते थे।





Comments

Popular posts from this blog

रिजवान की मौत में आया नया मोड फैमिली डाक्टर अब्दुल हकीम ने बताया

टांडा कोतवाली क्षेत्र में रिजवान की मौत में आया नया मोड फैमिली डाक्टर अब्दुल हकीम ने बताया की 18अप्रैल को रिजवान की फुफी ने बताया की बाइक से गिरने से लगी है चोट जिसकी जिला अस्पताल में इलाज के दौरान  संदिग्ध  परिस्थितियों  में  हुई  22 वर्षीय युवक  के   मृत्यु  के   मामले  में मृतक के  पिता ने पुलिस की पिटाई के कारण मृत्यु होना बता कर पुलिस के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की तहरीर दिया है। 

मौके का पुलिस अधीक्षक आलोक प्रियदर्शीएवं अपर पुलिस अधीक्षक अवनीश कुमार मिश्र ने निरीक्षण कर  जांचोपरांत कार्यवाही का आश्वासन दिया। पुलिस ने जहाँ पुलिस द्वारा  मारना पीटना बताया गया है ।उस घटनास्थल के आस पास लगे सीसी कैमरे  के फुटेज का निरीक्षण किया ।जिसमें किसी भी प्रकार की मार पीट की घटना दिखाई नही दे रही है । बैरहाल पुलिस हर बिंदुओं पर जांच कर रही है। शव का पोस्टमार्टम होने के बाद सुरक्षा व्यवस्था के बीच शव को मृतक के परिजनों को सौंप दिया गया। जिसके बाद बाद नमाज मगरिब शव को सलार गढ़ कब्रिस्तान में सुपुर्द ए खाक कर दिया गया। प्रशासन द्वारा सुपुर्द ए खाक में सीमित ही लोगों को जाने की अनुमति दी गई। इस मौके …

टाण्डा तहसील के शहर के नेहरू नगर मे 5 साल की बच्ची तृषा की रिपोर्ट आई पाज़िटिव

टाण्डा तहसील के नेहरू नगर में एक 5 साल की बच्ची तृषा पुत्री दिनेश कनौजिया करोना पाज़िटिव आई है। यह लोग मुंबई से चलकर इलाहाबाद आए थे ट्रेन से ।वहां से बस के द्वारा अकबरपुर आए थे। बच्ची को बुखार था प्राथमिक की स्क्रीनिंग में बच्चे को वहीं पर कोरंटाइन करा दिया गया था यह लोग 24 तारीख को यहां पर आए थे मौके पर टाण्डा एसडीएम अभिषेक पाठक व टाण्डा सीओ अमर बहादुर पहुंच कर एरिया को किया सील और लोगों से दूरी बनाने की अपील किया उसके बाद सीलिंग की कार्रवाई प्रारंभ होगी




यूपी के टॉप मोस्ट अपराधियों की बनाई गई लिस्ट

यूपी के टॉप मोस्ट अपराधियों की बनाई गई लिस्ट.

डीजीपी मुख्यालय ने बनाई 33 टॉप मोस्ट अपराधियों की लिस्ट.
लिस्ट में मुख्तार अंसारी, अतीक अहमद, ब्रजेश सिंह समेत 33 अपराधियों के नाम.

उत्तर प्रदेश में फिर शुरू होगा ऑपरेशन  क्लीन