Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Breaking News

latest

अमेठी में किसानों की समस्याओं का लगा अंबार।

उत्तर प्रदेश तथा केंद्र की भारतीय जनता पार्टी की सरकार भले ही किसानों की सुविधाओं को लेकर लाख दावे भरती हो लेकिन किसानों की मुश्किल...







उत्तर प्रदेश तथा केंद्र की भारतीय जनता पार्टी की सरकार भले ही किसानों की सुविधाओं को लेकर लाख दावे भरती हो लेकिन किसानों की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। लगातार उनकी मुश्किलें बढ़ती ही जा रही हैं । देश की अर्थव्यवस्था किसानों की बड़ी भूमिका है। विशेष रुप से इस कोरोनावायरस के संकट में किसानों द्वारा खेतों में उगाये गए अन्न से ही देश की आबादी जिंदा है। लेकिन इसके बावजूद किसानों को की समस्याओं पर सरकार ध्यान नहीं दे रही है और कोई ठोस कदम नहीं उठा रही है । जिससे किसान हलकान और परेशान है ऐसा ही मामला अमेठी में देखने को मिला है जहां पर अन्ना जानवर किसानों की फसलों को चौपट कर रहे हैं। इसी के साथ साथ किसानों को धान की फसलों के लिए यूरिया खाद महीनों से नहीं मिल पा रही है । जिससे फसल पीली होती जा रही है और फसलों में रोग लग रहे हैं ।जिसके चलते जिले का कृषि विभाग पूरी तरह से उदासीन दिखाई पड़ रहा है । ग्रामीणों की इलाकों में खाद उपलब्ध कराने के लिए बनाए गए सर्कल सहकारी केंद्र की हालत बद से बदतर हो गई है पुरानी और जर्जर बिल्डिंग के छत से टपकता पानी प्रतिवर्ष सैकड़ों बोरी उर्वरक मस्त हो रही है जिस पर शासन प्रशासन चुप्पी साधे बैठा हुआ है।

जी हां आपको बता दें की आवाज अमेठी जनपद के मुख्यालय गौरीगंज तहसील अंतर्गत ब्लाक जामो क्षेत्र के कटारी गांव से निकली है यहां के किसानों ने एक स्वर में आवाज़ उठा रहे हैं कि हम लोगों को आवारा पशुओं से निजात दिलाई जाए, इसी के साथ उनका कहना है कि पिछले 1 महीने से उन्हें यूरिया खाद नहीं मिल रही है। जिसके चलते धान की फसल पीली पड़ती जा रही है। शासन-प्रशासन बिल्कुल आंख बंद किए बैठा हुआ है । जबकि कहा जाता है कि अभी स्मृति ईरानी के द्वारा एक रैक खाद उतरवाई गई लेकिन वह कहां चली गई यह पता नहीं। इसी के साथ धान की फसलों में जबरदस्त रोग लग रहा है । जिसका इलाज नहीं मिल पा रहा है । स्थानीय कृषि रक्षा इकाई और जिले का कृषि विभाग बिल्कुल मौन बैठा हुआ है ।शासन-प्रशासन की ओर से हम किसानों को किसी भी प्रकार की मदद नहीं मिल पा रही है । जिसके चलते पूरी खेती चौपट हो रही है इससे हम लोगों की मांग है कि किसानों के ऊपर ध्यान दिया जाए नहीं तो पूरी फसलें बर्बाद हो जाएगी।





No comments