Skip to main content

सुभारती अस्पताल ने इंस्पेक्टर राकेश राठौर को दिया जीवनदान





मेरठ। 3 अगस्त को कोरोना के लक्षण होने पर सुभारती अस्पताल में भर्ती हुए नौचंदी थाने में तैनात इंस्पेक्टर राकेश राठौर भर्ती होने के प्रथम सप्ताह तक सामान्य स्थिति में रहे लेकिन 11 अगस्त को अचानक ऑक्सीजन का स्तर 35 प्रतिशत पर पहुंच गया जिससे उनकी सांस तेजी से चलने लगी और उनकी स्थिति कुछ घंटों में गंभीर हो गई। सामान्य स्थिति से अचानक गंभीर स्थिति होने पर डाक्टरों ने उन्हें तुरन्त आईसीयू में शिफ्ट किया जहां विशेष उपचार देकर उनकी जान बचाई जा सकी।





सुभारती अस्पताल के चिकित्सा उपाधीक्षक डा. कृष्णा मूर्ति ने बताया कि इंस्पेक्टर राकेश राठौर शुरूआत में बिल्कुल ठीक रहे लगभग एक सप्ताह के बाद अचानक उनकी हालत बिगड़ गई और फेफड़ां में संक्रमण होने की वजह से उन्हें सांस लेने में कठिनाई होने लगी। झटकों के साथ तेजी से उन्हें सांस आने लगा जिसके कारण उनकी वेंटिलेटर पर जाने की नौबत आ गई। मरीज की स्थिति का संपूर्ण संज्ञान लेकर डाक्टरों ने एच.एफ.एन.सी (हाई फ्यू नेजल कैनूला) मशीन की सहायता से इलाज देकर उन्हें वेंटिलेटर पर जाने से बचाया। उन्होंने बताया कि क्षेत्र में विश्वस्तरीय आधुनिक तकनीक से युक्त एच.एफ.एन.सी (हाई फ्यू नेजल कैनूला) मशीन की सुविधा केवल सुभारती अस्पताल में मौजूद है जो मरीजों के लिये संजीवनी बनकर उन्हें जीवनदान दे रही है। उन्होंने बताया कि इंस्पेक्टर राकेश राठौर की स्थिति उतार चढ़ाव वाली रही शुरूआत में सामान्य रहने के बावजूद बाद में अधिक गंभीर स्थिति होने पर डाक्टरों ने आईसीयू में आधुनिक मशीनों द्वारा 24 घंटे अपनी निगरानी में उनका इलाज किया जिसमें उन्हें प्लाज़्मा थैरेपी भी दी गई साथ ही न्यूक्लियर मेडिसन द्वारा भी उनका इलाज किया गया।
जिस प्रकार उनकी अचानक हालत बिगड़ गई थी इसी प्रकार उक्त दिये गये विशेष उपचार से उनके स्वास्थ में तेजी से सुधार हुआ और अब वह कोरोना को हराकर अपने घर लौट रहे है। उन्होंने बताया कि सुभारती अस्पताल में आने वाले हर कोविड रोगियों की विशेष निगरानी की जा रही है और हर समय उपलब्ध डाक्टरों की टीम द्वारा सेवाभाव एवं संवेदनाओं से जरूरत के मुताबिक सभी को इलाज दिया जा रहा है जिससे मरीज जल्दी ठीक होकर अपने घरों को लौट रहे है। उन्होंने विशेष बताया कि सुभारती अस्पताल में प्लाज़्मा थैरेपी केन्द्र पिछले काफी समय से चल रहा है जो क्षेत्र का पहला प्लाज़्मा केन्द्र है जिसकी सहायता से बड़ी तादाद में मरीजों की जान बचाई जा रही हैं। डाक्टर कृष्णा मूर्ति ने बताया कि जैसे ही उन्होंने नौचंदी थाने के इंस्पेक्टर श्री आशुतोष को सूचना भेजी कि राकेश राठौर जी को प्लाज़्मा थैरेपी देने के लिये ऐसे व्यक्तियों की आवश्यकता है जो कुछ समय पहले कोविड रोग के संक्रमण से ठीक हो चुके हो, तो लगभग एक घंटे में ही इंस्पेक्टर आशुतोष 5-6 सिपाहियों को लेकर अस्पताल में आ गये। उनके प्रयास से उपलब्ध हुए प्लाज़्मा का भी श्री राकेश राठौर की जान बचाने में बड़ा योगदान रहा। डा. कृष्णा ने मेरठ की जनता से अपील करते हुए कहा कि जो कोविड रोगी पूर्ण रूप से स्वस्थ होकर अपने घर जा चुके हैं उन सभी को अपना प्लाज़्मा दान करना चाहिए ताकि गंभीर स्थिति के कोविड रोगियों की जान बचाई जा सके। छुट्टी के दौरान उन्होंने इंस्पेक्टर राकेश राठौर को बधाई देते हुए समस्त डाक्टरों एवं नर्सिंग स्टाफ की टीम को शुभकामनाएं दी।

छुट्टी के मौके पर इंस्पेक्टर राकेश राठौर के स्वागत के लिये पहुंचे सीओ सिविल लाइन श्री संजीव देशवाल ने सुभारती अस्पताल को पुलिस विभाग की ओर से धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि सुभारती अस्पताल सही मायनों में कोरोना योद्धा के रूप में जनता की सेवा कर रहा है और जिस प्रकार पुलिस विभाग के हौनहार इंस्पेक्टर को डाक्टर एवं नर्सिंग स्टाफ ने 24 घंटे मेहनत करके उनकी जान बचाई है इसके लिये वह सदैव सुभारती अस्पताल के ऋणी रहेंगे। उन्होंने सुभारती अस्पताल द्वारा कोरोना काल में जनमानस को चिकित्सीय सुविधाओं से लाभान्वित करने पर विशेष धन्यवाद दिया एवं सभी डाक्टर व नर्सिंग स्टाफ के कार्यों की सराहना की।
अस्पताल से बाहर आने पर इंस्पेक्टर राकेश राठौर ने कहा कि सुभारती अस्पताल के डाक्टरों ने उन्हें जीवनदान दिया है इसके लिये वह उनके जीवनभर आभारी रहेंगे। उन्होंने कहा कि सुभारती अस्पताल में दिल्ली मुम्बई के बड़े अस्पतालों जैसी सुविधाएं 24 घंटे उपलब्ध है जिसमें विशेष रूप से डाक्टरों एवं नर्सिंग स्टाफ का सेवाभाव से युक्त सरल स्वभाव मरीजों में आत्मविश्वास पैदा कर रहा है तो दूसरी जानिब आधुनिक उपकरणों व अनुभवी डाक्टर मरीजों के साथ मेहनत करके उनकी जान बचा रहे है।
इस मौके पर स्वांस रोग विशेषज्ञ डा. ईमा चौधरी, क्रिटिकल केयर विशेषज्ञ डा. सुमित कुमार झा, डा. सुनील मलहोत्रा, डा. शाजिया, नर्सिंग अधीक्षक संजू सौलंकी आदि समेत नौचंदी थाना के एसएचओ श्री आशुतोष कुमार एवं पुलिस विभाग से स्टाफ के सदस्य मौजूद रहें।

--






Comments

Popular posts from this blog

रिजवान की मौत में आया नया मोड फैमिली डाक्टर अब्दुल हकीम ने बताया

टांडा कोतवाली क्षेत्र में रिजवान की मौत में आया नया मोड फैमिली डाक्टर अब्दुल हकीम ने बताया की 18अप्रैल को रिजवान की फुफी ने बताया की बाइक से गिरने से लगी है चोट जिसकी जिला अस्पताल में इलाज के दौरान  संदिग्ध  परिस्थितियों  में  हुई  22 वर्षीय युवक  के   मृत्यु  के   मामले  में मृतक के  पिता ने पुलिस की पिटाई के कारण मृत्यु होना बता कर पुलिस के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की तहरीर दिया है। 

मौके का पुलिस अधीक्षक आलोक प्रियदर्शीएवं अपर पुलिस अधीक्षक अवनीश कुमार मिश्र ने निरीक्षण कर  जांचोपरांत कार्यवाही का आश्वासन दिया। पुलिस ने जहाँ पुलिस द्वारा  मारना पीटना बताया गया है ।उस घटनास्थल के आस पास लगे सीसी कैमरे  के फुटेज का निरीक्षण किया ।जिसमें किसी भी प्रकार की मार पीट की घटना दिखाई नही दे रही है । बैरहाल पुलिस हर बिंदुओं पर जांच कर रही है। शव का पोस्टमार्टम होने के बाद सुरक्षा व्यवस्था के बीच शव को मृतक के परिजनों को सौंप दिया गया। जिसके बाद बाद नमाज मगरिब शव को सलार गढ़ कब्रिस्तान में सुपुर्द ए खाक कर दिया गया। प्रशासन द्वारा सुपुर्द ए खाक में सीमित ही लोगों को जाने की अनुमति दी गई। इस मौके …

टाण्डा तहसील के शहर के नेहरू नगर मे 5 साल की बच्ची तृषा की रिपोर्ट आई पाज़िटिव

टाण्डा तहसील के नेहरू नगर में एक 5 साल की बच्ची तृषा पुत्री दिनेश कनौजिया करोना पाज़िटिव आई है। यह लोग मुंबई से चलकर इलाहाबाद आए थे ट्रेन से ।वहां से बस के द्वारा अकबरपुर आए थे। बच्ची को बुखार था प्राथमिक की स्क्रीनिंग में बच्चे को वहीं पर कोरंटाइन करा दिया गया था यह लोग 24 तारीख को यहां पर आए थे मौके पर टाण्डा एसडीएम अभिषेक पाठक व टाण्डा सीओ अमर बहादुर पहुंच कर एरिया को किया सील और लोगों से दूरी बनाने की अपील किया उसके बाद सीलिंग की कार्रवाई प्रारंभ होगी




यूपी के टॉप मोस्ट अपराधियों की बनाई गई लिस्ट

यूपी के टॉप मोस्ट अपराधियों की बनाई गई लिस्ट.

डीजीपी मुख्यालय ने बनाई 33 टॉप मोस्ट अपराधियों की लिस्ट.
लिस्ट में मुख्तार अंसारी, अतीक अहमद, ब्रजेश सिंह समेत 33 अपराधियों के नाम.

उत्तर प्रदेश में फिर शुरू होगा ऑपरेशन  क्लीन