Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Breaking News

latest

मुजफ्फरनगर कलाल पुलवामा आतंकी हमले में हुआ शहीद जनपद में छाई शोक की लहर

संजय कुमार मुजफ्फरनगर। जम्मू कश्मीर में आतंकवादियों से लोहा लेते हुए जनपद के एक और लाल के शहीद हो गया, जिसके चलते जनपद में शोक की स्थ...



संजय कुमार

मुजफ्फरनगर। जम्मू कश्मीर में आतंकवादियों से लोहा लेते हुए जनपद के एक और लाल के शहीद हो गया, जिसके चलते जनपद में शोक की स्थिति है। शहीद जवान के परिजनों ने उसकी जम्मू कश्मीर में नियमों के विरुद्ध नियुक्ति किए जाने का आरोप लगाया है। शहीद जवान के पिता भी आर्मी में नायक पद से रिटायर्ड है। जवान की शहादत का समाचार पाकर उनके निवास पर बड़ी संख्या में लोग शोक व्यक्त करने पहुंचे।
प्राप्त जानकारी के मुताबिक मूल रूप से बागपत जनपद के बिजरोल गांव निवासी शीशपाल शर्मा सेना में नायक पद से रिटायर्ड है और वर्तमान में करीब 15 साल से बुढाना रोड पर मकान बनाकर रह रहे हैं। शीशपाल शर्मा के पुत्र प्रशांत शर्मा वर्ष 2017 में सेना में भर्ती हुए थे, जिसके बाद उनकी पहली पोस्टिंग राजस्थान में हुई थी। कुछ समय पूर्व उनकी पोस्टिंग जम्मू कश्मीर में कर दी गई थी, जहां आज उनके आतंकवादियों से मुठभेड़ के दौरान शहीद हो जाने की सूचना है। प्रशांत शर्मा की शहादत का समाचार मिलते ही उनके परिजनों सहित पूरे क्षेत्र में कोहराम मच गया।
बड़ी संख्या में क्षेत्र के लोग उनके आवास पर शोक व्यक्त करने पहुंचे। एक तरफ जहां लोगों के दिलों में प्रशांत शर्मा की शहादत के प्रति गर्व की भावना थी, वही उनके परिजनों की चीत्कार लोगों के सीने भी छलनी कर रही थी। प्रशांत शर्मा के परिजनों ने आरोप लगाया कि उनकी नियुक्ति नियम विरुद्ध जम्मू कश्मीर में की गई जबकि यह प्रावधान है कि जम्मू कश्मीर में कम से कम 5 साल की सेना सेवा का अनुभव रखने वाले जवानों को ही नियुक्त किया जाना चाहिए। प्रशांत शर्मा की शहादत का समाचार पाकर पूरे जिले में शोक की लहर है।

मुजफ्फरनगर के बुढ़ाना मोड़ निवासी प्रशांत शर्मा 2017 की भर्ती में सेना में भर्ती हुए थे। आतंकियों से आमने सामने भिड़ने के बाद गम्भीर रूप से घायल हुए प्रशांत शर्मा शहीद हो गए। शहीद प्रशांत शर्मा 25/12/98 को जन्मे थे व मात्र 22 वर्ष के थे। इसी साल 6 दिसंबर में उनकी शादी होना तय हुआ था, परिवार उनकी शादी की तैयारियों में लगा हुआ था, बस इंतजार था प्रशांत के छुट्टी मिलते ही घर आने का। मगर खुशी की वह घड़ी आने से पहले ही आज परिवार पर दुखों का यह बड़ा पहाड़ टूट पड़ा। शहीद प्रशांत के छोटे भाई निशांत शर्मा ने मीडिया को बताया कि उनके पिताजी शीशपाल शर्मा सेना में नायक के पद से रिटायर्ड है और वह तीन बहन भाई हैं। बहन की शादी हो गई है। निशांत ने बताया सेना के अधिकारियों ने बताया कि हमारा भाई आतंकियों से मुठभेड़ में शहीद हुआ है। अधिकारियों ने बताया शहीद प्रशांत शर्मा को तीन गोली सीने पर लगी हैं। निशांत शर्मा के साथ बातचीत में सेना के अधिकारियों ने बताया कि शहीद का पार्थिव शरीर कल सुबह उनके आवास बुढाना मोड मुजफ्फरनगर पहुंचेगा और उसके बाद काली नदी श्मशान घाट पर राजकीय सम्मान के साथ शहीद का अंतिम संस्कार किया जाएगा।



संजय कुमार मुज़फ्फरनगर





No comments