Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Breaking News

latest

शोक संवेदना व्यक्त करने पहुंचे सपा नेताओं के सामने पीड़िता ने दिया बड़ा बयान।

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में विगत 17 जुलाई को अमेठी जनपद की जामो थाना क्षेत्र के कस्बे की रहने वाली सोफिया बानो तथा उनकी पुत्री अफसाना ब...






उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में विगत 17 जुलाई को अमेठी जनपद की जामो थाना क्षेत्र के कस्बे की रहने वाली सोफिया बानो तथा उनकी पुत्री अफसाना बानो ने लोक भवन के सामने शाम 5:30 बजे खुद को आग लगाकर आत्महत्या करने की कोशिश की थी । जिसमें बुरी तरह से जल गई सोफिया बानो की इलाज के दौरान मृत्यु हो गई थी। वहीं पर उसकी पुत्री अफसाना बानो भी 40% के लगभग जली थी । जिसका इलाज आज भी चल रहा है बताया जाता है कि जमीनी विवाद को लेकर न्याय न मिलने के चलते दर दर की ठोकर खा रही इस मां बेटी ने इस तरह का कदम उठाया था । जिसको बाद में राजनैतिक मोड़ दे दिया गया। इसी मामले को लेकर समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मृतक सोफिया बानो कि पीड़िता पुत्री अफसाना बानो को इलाज हुआ सहयोग के रूप में 2 लाख रुपए खाते में देकर मदद की है। इसी के साथ अमेठी जनपद के निवर्तमान जिलाध्यक्ष छोटे लाल यादव रायबरेली जनपद की सलोन विधानसभा से पूर्व विधायक आशा किशोर तथा समाजवादी पार्टी की जिला महिला महासचिव गुंजन सिंह सहित पार्टी के तमाम कार्यकर्ताओं ने आज अफसाना बानो  उर्फ गुड़िया के घर पहुंचकर शोक संवेदना व्यक्त करते हुए हर संभव मदद का भरोसा दिलाया। इस दौरान सोफिया बानो ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि - एक बार मैं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी से मिलकर पूरी दास्तान बताना चाहती हूं और कुछ उनको देना चाहती हूं तथा दिखाना चाहती हूं। इसके बाद मैं यह प्रदेश ही छोड़कर चली जाना चाहती हूं क्योंकि यहां पर ना तो मुझे न्याय मिलेगा और ना ही मैं यहां अपने आप को सुरक्षित महसूस कर रही हूं । मुझे तथा मेरे परिवार की जान को यहां पर खतरा है।


वीओ - सहानुभूति व्यक्त करने पहुंची सलोन विधानसभा से पूर्व विधायक आशा किशोर ने बताया कि - हम लोग अफसाना बानो के लिए आए हैं। हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष जी ने भेजा है हम लोग समाजवादी पार्टी की तरफ से आए हैं। यह जो दुखद कांड हुआ है जैसा कि आप सभी लोग जानते हैं 17 जुलाई को विधानसभा के सामने यह घटना घटी थी । आप लोग समझ सकते हैं कि कितना परेशान होने के बाद इन लोगों ने इस प्रकार का कदम उठाया था । कोई इतनी आसानी से अपनी जान नहीं देता जब यह लोग अधिकारियों के पास जाते जाते थक गई और कहीं से कोई न्याय नहीं मिला तब इन लोगों ने विधानसभा के सामने जाकर अपनी जान देने की कोशिश की। जिसमें अफसाना बानो की मां सोफिया खत्म हो गई। आप लोग  सोच के देखें कितना परेशान होने तथा पीड़ित होने के बाद यह सब इन्होंने किया होगा। जब हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष को यह पता चला तब उन्होंने अफसाना बानो की इलाज के लिए ₹2 लाख भेजे हैं। उसको हम लोग संगठन के अध्यक्ष जी और सभी लोग देने आए हैं । इसके साथ आगे उनको क्या दिक्कत और परेशानी है? हम उसको समझने आए हैं। प्रशासन के द्वारा उसको डराया और धमकाया जा रहा है । आज भी उसकी नहीं सुनी जा रही है इसलिए वह अपनी व्यथा समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष को पत्र के माध्यम से लिख रही है।



वहीं पर छोटे लाल यादव ने वर्तमान जिलाध्यक्ष समाजवादी पार्टी अमेठी ने बताया कि- हम लोग राष्ट्रीय अध्यक्ष जी के निर्देश पर उन्होंने जो अफसाना बानो के लिए मदद किया है । उन्होंने ₹2 लाख की सहायता राशि उनके खाते में मदद के लिए दिए हुए हैं । इसी के साथ उन्होंने शोक संदेश के रूप में पत्र जारी किया हुआ है। हम लोगों ने उसको उनको दिया इसके साथ उनको जो परेशानी है जो दिक्कत है उसके लिए पूरी समाजवादी पार्टी उनके साथ खड़ी है। उसकी जो भी परेशानी तथा उसके सुख दुख में समाजवादी पार्टी उसके साथ खड़ी है। इसी के साथ उसका जो भी संदेश है राष्ट्रीय अध्यक्ष जी तक पहुंचा दिया जाएगा । जहां तक हो सकेगी उसकी हम लोग और पूरी समाजवादी पार्टी उसकी मिलकर मदद करेंगे। उन्होंने बताया है कि शासन प्रशासन में उनकी कहीं कोई सुनवाई नहीं हो रही है । उसका इलाज कायदे से नहीं किया जा रहा है उसने बताया कि हमारी माता का इलाज के अभाव में देहांत हो गया। वह एम्स में भर्ती करने के लिए कह रही थी लेकिन शासन प्रशासन ने सुना नहीं । उसका भी जो इलाज हो रहा है उसने भी बताया कि उसका 50-60 हजार रुपए बिल आया हुआ है । अभी भी उसको परेशानी है और डराया धमकाया जा रहा है। इसलिए समाजवादी पार्टी उनके साथ खड़ी है जहां तक होगी हम लोग उसकी मदद के लिए पूरी तरह से तत्पर हैं।




समाजवादी पार्टी के अमेठी जिला महिला सचिव गुंजन सिंह ने बताया कि - महिला होने के नाते मैं यह कहूंगी कि यह बहुत ही शर्मनाक और दुखद घटना है। इनकी महिलाओं की आवाज इस सरकार में नहीं सुनी जा रही है और उसको आत्मदाह करना पड़ रहा है । भारतीय जनता पार्टी के राज में सब पूरी तरह से ध्वस्त है। इसलिए हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष माननीय अखिलेश यादव जी ने ₹2 लाख पीड़िता को दे कर मदद की वहीं आज हम लोग समाजवादी पार्टी के सभी कार्यकर्ता हमारे अध्यक्ष जी हमारे विधायक जी सब लोग साथ में हैं। हम लोग ₹2 लाख की सहायता राशि प्रदान करने के लिए आज आए हुए हैं । आगे भी जो भी मदद होगी पूरी समाजवादी पार्टी इनके साथ खड़ी है। जिस प्रकार की आवश्यकता होगी हम लोग उनकी पूरी मदद करेंगे।




अंत में स्वयं पीड़िता अफसाना बानो ने बताया कि आज समाजवादी पार्टी के कुछ लोग आए हुए हैं। जिन्होंने हमारे साथ शोक संवेदना व्यक्त किया और मुझे आश्वासन दिया है। उन्होंने कहा कि जो भी कोई कार्य होगा वह हमारे साथ रहेंगे। जो सर अखिलेश यादव जी हैं उन्होंने हमारी मदद किया है । हम उनका आभार व्यक्त करते हैं । हमारे साथ सिक्योरिटी लगी हुई है हम कहीं आ जा नहीं सकते हैं। ऐसे में हम बिना उनकी परमिशन के नहीं आ सकते हैं ना जा सकते हैं। इस तरह से हमको कहीं न्याय के लिए जाना है तो हम को कैसे न्याय मिलेगा ? हमको अभी तक न्याय नहीं मिला है। रविवार को जिलाधिकारी और पुलिस कप्तान के साथ मेरी मीटिंग हुई थी । मैंने उनको कुछ बातें भी बताई थी अभी जब हम अस्पताल से निकल आए हैं तो हम सबसे पहले यह कहना चाहते हैं । अपने भतीजे और भाई के लिए जिस तरह से उनको अपने आप को बचाने के लिए जिले में कुछ ऐसे अधिकारी हैं और कुछ ऐसे भी लोग हैं। जो इसमें शामिल है और उनको नाम अपना खुलने का डर है । जिनके नाम का खुलासा जांच में हो सकता है । इसमें अमेठी के एक नेता जो बहुत ही प्रभावशाली है जिनका नाम मैंने अभी तक लिया नहीं है। हम उनको संदेश देना चाहते हैं कि अगर मेरे साथ यहां पर कोई घटना घट जाती है तो उनके दबाव में शासन प्रशासन तथा जो भी अधिकारी कार्य कर रहे हैं । उन लोगों को भी पता है कि वह कौन है । लेकिन लगातार मुझसे पूछा जा रहा है लेकिन हम डर की वजह से नहीं बता पा रहे हैं कि कहीं मेरी हत्या ना हो जाए । कहीं मुझे यह ना दिखा दिया जाए की पुलिस कस्टडी में या और कहीं मेरी जान को खतरा है । ऐसे में हम मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी से मिलना भी चाहते हैं और और वार्ता भी करना चाहते हैं। उनसे मिलकर सारी सच्चाई बताने के लिए गए थे और अभी हम बता नहीं पाए हैं । आज भी हम बताना चाहते हैं कुछ ऐसी चीजें हैं जो हम उनको दिखाना चाहते हैं और जो देना चाहते हैं। जिससे उनको स्पष्ट रूप से पता चल जाए कि इस में किन लोगों का हाथ है। उन लोगों का नाम खुलना चाहिए और जिन लोगों ने हम लोगों को उन लोगों का नाम खुलना चाहिए और जिन लोगों ने हम लोगों को फसाया जा रहा है । वह सिर्फ अपने आप को बचाने के लिए बताया जा रहा है कि इसमें यह लोग दोषी है और शामिल है । मेरे मां के अंतिम संस्कार में भी मेरा परिवार शामिल नहीं हो सका था। इस तरह से अगर आगे न्याय पाने के लिए हमको दर दर भटकना ही है तो हमे न्याय नहीं चाहिए। हमको हमारे भाई को और भतीजे को छोड़ दीजिए हमारी जान को बहुत बड़ा खतरा है इसलिए हम इस प्रदेश को ही छोड़ 







No comments