Skip to main content

मरीजों को नहीं मिलती सुविधाएं।





PLACE - AMETHI

REPORT - DILEEP YADAV

सरकार चिकित्सा शिक्षा पर भले ही लाखों रुपए प्रतिदिन पानी की तरफ फेंक रही हो लेकिन इसका लाभ आम आदमी तक नहीं पहुंच रहा है कहीं पर कमीशन खोरी तो कहीं ब्लैक मार्केटिंग के चलते जनता को मिलने वाली सुविधाओं पर विधिवत चूना लगाया जाता है। क्योंकि इस बात की जानकारी स्वयं अमेठी की जनता ने बयां किया है जहां पर  अमेठी कस्बे में स्थित  सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र  में आने वाले मरीजों को  डॉक्टर बाहर की दवाएं लिखते हैं  और जो दवाएं सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में उपलब्ध भी रहती हैं  उनको भी नहीं दिया जाता है  यह बता दिया जाता है  की दवाएं बाहर मिलेंगी यहां पर दवाएं नहीं हैं। मरीज बेचारा करे भी तो क्या कहे तो किस से कहें मजबूरन उसको इलाज कराना है और वह बाहर मेडिकल स्टोर पर जाकर हजारों रुपए की दवाएं खरीद लेता है क्योंकि उसको यह भी नहीं पता कि वास्तव में यहां कौन सी दवा उपलब्ध है और कौन सी नहीं है। इसी तरह विभिन्न रोगों में खून की जांच में भी यही मामला देखने को मिलता है सीएचसी में तैनात  मेडिकल स्टाफ की वजह से बाहर चल रहे निजी पैथोलॉजी यों की तो बल्ले-बल्ले है  क्योंकि  यहां पर शायद कभी छोटी मोटी जांच कर दी जाती हो  नहीं तो  सभी जांचों के लिए  बाहर  स्थित निजी पैथोलॉजी पर  मरीजों को  लुटने के लिए भेज दिया जाता है। इस मामले में जब सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सा अधीक्षक डॉ पीके उपाध्याय से बात की गई तो उन्होंने बताया कि मामला मेरे संज्ञान में नहीं है अभी तक किसी ने मुझसे शिकायत नहीं की है यदि किसी को समस्या है तो वह मेरे पास आए। ऐसे में डॉक्टर साहब को जब तक स्वयं जिलाधिकारी या योगी आदित्यनाथ शिकायत नहीं करेंगे तब तक वह किसी भी प्रकार की कार्यवाही नहीं करेंगे । जाहिर सी बात है की इस मामले में पूरे अस्पताल कर्मियों की मिलीभगत से गरीबों का हक मारा जाता है। जबकि चिकित्सा अधीक्षक बताते हैं कि हमारे अस्पताल में 156 प्रकार की दवाइयां उपलब्ध है लेकिन वह दवाइयां जाती कहां है यह किसी को नहीं मालूम। वहीं पर जब खून संबंधी जाटों के लिए हमारे संवाददाता ने समुदाय स्वास्थ्य केंद्र की पैथोलॉजी लैब में जाकर लैब टेक्नीशियन से बात की तो उन्होंने जाटों की एक लंबी फेहरिस्त सुनाई जो जो जांचे सामुदायिक स्वास्थ्य में उपलब्ध है लेकिन इसके बावजूद जनता को जांच के लिए बाजार स्थित विभिन्न पैथोलॉजी यों का सहारा लेना पड़ता है क्योंकि पैथोलॉजी और मेडिकल स्टोर से कमीशन के रूप में मोटी रकम डॉक्टरों के पास पहुंचती है तो फिर डॉक्टर अंदर से दवाइयां क्यों दें खून की जांच हैं सरकारी अस्पताल में क्यों की जाए। यह मामला केवल सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अमेठी का ही नहीं वरन जिले में स्थापित सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र एवं सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में कमोवेश यही स्थिति है ।





Comments

Popular posts from this blog

रिजवान की मौत में आया नया मोड फैमिली डाक्टर अब्दुल हकीम ने बताया

टांडा कोतवाली क्षेत्र में रिजवान की मौत में आया नया मोड फैमिली डाक्टर अब्दुल हकीम ने बताया की 18अप्रैल को रिजवान की फुफी ने बताया की बाइक से गिरने से लगी है चोट जिसकी जिला अस्पताल में इलाज के दौरान  संदिग्ध  परिस्थितियों  में  हुई  22 वर्षीय युवक  के   मृत्यु  के   मामले  में मृतक के  पिता ने पुलिस की पिटाई के कारण मृत्यु होना बता कर पुलिस के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की तहरीर दिया है। 

मौके का पुलिस अधीक्षक आलोक प्रियदर्शीएवं अपर पुलिस अधीक्षक अवनीश कुमार मिश्र ने निरीक्षण कर  जांचोपरांत कार्यवाही का आश्वासन दिया। पुलिस ने जहाँ पुलिस द्वारा  मारना पीटना बताया गया है ।उस घटनास्थल के आस पास लगे सीसी कैमरे  के फुटेज का निरीक्षण किया ।जिसमें किसी भी प्रकार की मार पीट की घटना दिखाई नही दे रही है । बैरहाल पुलिस हर बिंदुओं पर जांच कर रही है। शव का पोस्टमार्टम होने के बाद सुरक्षा व्यवस्था के बीच शव को मृतक के परिजनों को सौंप दिया गया। जिसके बाद बाद नमाज मगरिब शव को सलार गढ़ कब्रिस्तान में सुपुर्द ए खाक कर दिया गया। प्रशासन द्वारा सुपुर्द ए खाक में सीमित ही लोगों को जाने की अनुमति दी गई। इस मौके …

टाण्डा तहसील के शहर के नेहरू नगर मे 5 साल की बच्ची तृषा की रिपोर्ट आई पाज़िटिव

टाण्डा तहसील के नेहरू नगर में एक 5 साल की बच्ची तृषा पुत्री दिनेश कनौजिया करोना पाज़िटिव आई है। यह लोग मुंबई से चलकर इलाहाबाद आए थे ट्रेन से ।वहां से बस के द्वारा अकबरपुर आए थे। बच्ची को बुखार था प्राथमिक की स्क्रीनिंग में बच्चे को वहीं पर कोरंटाइन करा दिया गया था यह लोग 24 तारीख को यहां पर आए थे मौके पर टाण्डा एसडीएम अभिषेक पाठक व टाण्डा सीओ अमर बहादुर पहुंच कर एरिया को किया सील और लोगों से दूरी बनाने की अपील किया उसके बाद सीलिंग की कार्रवाई प्रारंभ होगी




यूपी के टॉप मोस्ट अपराधियों की बनाई गई लिस्ट

यूपी के टॉप मोस्ट अपराधियों की बनाई गई लिस्ट.

डीजीपी मुख्यालय ने बनाई 33 टॉप मोस्ट अपराधियों की लिस्ट.
लिस्ट में मुख्तार अंसारी, अतीक अहमद, ब्रजेश सिंह समेत 33 अपराधियों के नाम.

उत्तर प्रदेश में फिर शुरू होगा ऑपरेशन  क्लीन