Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Breaking News

latest

उद्यानिक खेती।

PLACE - AMETHI REPORT - DILEEP YADAV किसानों को खेती में आए थे तरह तरह की समस्याएं बनी रहती हैं। कभी किसानों को समय पर खाद बीज नह...





PLACE - AMETHI

REPORT - DILEEP YADAV

किसानों को खेती में आए थे तरह तरह की समस्याएं बनी रहती हैं। कभी किसानों को समय पर खाद बीज नहीं मिल पाता है तो कभी मौसम की मार झेलनी पड़ती है इसी के साथ आवारा पशु भी एक बड़ी समस्या बनकर खड़े हैं जो तैयार होने वाली फसल को पूरी तरह नष्ट कर डालते हैं ऐसे में किसानों का रुझान अब उद्यानिकी खेती की ओर अग्रसर होने लगा है जिसमें वह अच्छा खासा मुनाफा कमा रहे हैं और लोगों से इस तरह की खेती के लिए अपील भी कर रहे हैं।

ऐसे ही यह किसान अमेठी जिले के संग्रामपुर ब्लाक क्षेत्र अंतर्गत पूरे शुक्लन ग्राम के रहने वाले रवि प्रकाश शुक्ला जो पहले आयल मिल चलाते थे। उसमें काफी घाटा आने के बाद वह खेती में जुटे । खेती में भी गेहूं धान आलू जैसी खेती किया लेकिन उनको कोई खास मुनाफा नहीं मिला । ऐसे में वह 1 दिन रेडियो पर सीतापुर के रहने वाले एक किसान की बातचीत सुनकर प्रेरित हुए और वह सीतापुर जाकर उस किसान से मिले और उनके दिशा निर्देशन में केले की खेती की शुरुआत की। रवि शुक्ला बताते हैं शुरू हुए उन्होंने एक बीघे खेत में 1000 केले की पौध लगाई । जिसमें उन्हें उद्यान विभाग से मदद भी मिली ₹10 प्रति पौधे की सब्सिडी प्राप्त हुई साथ-साथ सिंचाई करने वाले यंत्र 40% की लागत पर मिले जिसमें 60% छूट थी इसके अलावा प्रतिवर्ष अनुरक्षण के रूप में सरकार के द्वारा ₹14000 प्रति हेक्टेयर किसान को दिया जाता है। रवि शुक्ला ने बताया कि मेरे द्वारा नवीन एवं पुरानी लगभग  5  बीघे खेत में केले की फसल लगाई गई है इस बार फसल अच्छी हुई है और कीमत थी अच्छी है 1 सप्ताह के बाद हर वेस्टिंग शुरू हो जाएगी जिससे हमको इस बार लगभग 5 लाख रुपए मुनाफा मिलने की उम्मीद है। केले की फसल एक बार पौधरोपण करने के बाद यदि किसान द्वारा ढंग से देखभाल की जाती है तो वह 4 से 5 साल तक चलती रहती है। रवि शुक्ला को केला उत्पादन में अमेठी जिले में प्रथम स्थान प्राप्त हुआ है इसी के साथ वह किसानों को यह भी सलाह देते हैं की किसान भाई केले की खेती करें और निश्चित रूप से मुनाफा प्राप्त करें।


No comments