Skip to main content

स्तनपान व पोषण के हजार दिन के बारे में दी जानकारी


राष्ट्रीय पोषण माह
गाजीपुर, 18 सितंबर 2020
राष्ट्रीय पोषण माह के तहत हर  दिन विभिन्न गतिविधियां आयोजित की जा रही हैं।  इसी क्रम में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं मुख्य सेविका लाभार्थी के घर-घर भ्रमण कर गर्भावस्था (270 दिन) और जन्म के बाद शिशु की देखभाल (730 दिन) के 1000 दिन के दौरान पोषण पर विशेष ध्यान के साथ ही नवजात शिशु के स्तनपान पर गर्भवती के परिजनों को जानकारी दी गयी।
सैदपुर परियोजना की मुख्य सेविका आशा देवी ने बताया कि परियोजना के अंतर्गत 314 आंगनबाड़ी केंद्र आते हैं जहां पर कार्यरत 303 आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को कैलेंडर के अनुसार चयनित लाभार्थियों के गृह भ्रमण के निर्देश दिए गए हैं। आंगनबाड़ियों द्वारा लोगों के घर-घर जाकर कुपोषण से बचने के सभी संभावनाएं के साथ ही स्तनपान के बारे में जानकारी दी जा रही है। उन्होंने बताया कि स्तनपान किसी भी शिशु का प्राकृतिक अधिकार होता है। जनसामान्य में यह धारणा है कि स्तनपान शिशु के बेहतर स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है। स्तनपान के लाभ इससे भी कई गुना अधिक हैं। जहां एक ओर यह बच्चे के प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूत करता है, वहीं माता को भी कई तरह की बीमारियों से बचाता है। यह हर रूप में शिशु को सिर्फ और सिर्फ लाभ ही पहुंचाता है। इसकी महत्ता इसी से समझी जा सकती है कि मां के दूध में पर्याप्त पोषक तत्व होते हैं और शिशु को छह माह तक पानी पीने की भी आवश्यकता नहीं होती। मां के दूध से बच्चे को जो बच्चे स्तनपान करते हैं, उनका प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूत बनाता ही है, साथ ही पीलिया, एलर्जी, अस्थमा व अन्य श्वास संबंधी बीमारियां, सर्दी−जुकाम को दूर रखता है। ऐसे बच्चे कुपोषण के शिकार नहीं होते क्योंकि मां के दूध के रूप में पर्याप्त पोषण मिलता है। स्तनपान शिशु के सिर्फ शारीरिक विकास पर ही सकारात्मक प्रभाव नहीं डालता, बल्कि यह उनके मानसिक विकास में भी सहायक होता है।
स्तनपान से बच्चे के साथ−साथ मां को भी उतना ही फायदा पहुंचाता है। यह प्रसव के बाद बढ़ने वाले वजन को नियंत्रित करता है। जब माता ब्रेस्टफीडिंग कराती है तो बिना कुछ किए ही उसकी काफी कैलोरी बर्न हो जाती है। शायद आपको पता न हो लेकिन महिलाओं में होने वाले कैंसर की संभावना को कम करने के लिए स्तनपान कराना आवश्यक है। जो महिलाएं बच्चे के जन्म के तुरंत बाद ब्रेस्टफीडिंग शुरू करती हैं। उन्हें प्रसव के बाद होने वाले दर्द व रक्तस्त्राव में भी काफी आराम मिलता है। ऐसा ब्रेस्टफीडिंग के दौरान ऑक्सीटोसिन हार्मोन रिलीज होता है।
जिला स्वस्थ भारत प्रेरक जितेंद्र कुमार गुप्ता ने बताया कि पोषण के 1000 दिन यानि गर्भावस्था के 270 दिन और जन्म के बाद के शिशु के पहले 730 दिन नवजात के शुरुआती जीवन की सबसे महत्वपूर्ण अवस्था होती है। आरंभिक अवस्था में उचित पोषण नहीं मिलने से बच्चों के मस्तिष्क विकास में भारी नुकसान हो सकता है, जिसकी भरपाई नहीं हो पाती है।  शिशु के शरीर का सही विकास नहीं होता तथा उनमें सीखने की क्षमता में कमी, स्कूल में सही प्रदर्शन नहीं करना, संक्रमण और बीमारी का अधिक खतरा होने जैसी कई अन्य गंभीर समस्याएं हो सकती हैं। गर्भावस्था और जन्म के बाद पहले वर्ष का पोषण बच्चों के मस्तिष्क और शरीर के स्वस्थ विकास और प्रतिरोधकता बढ़ाने में बुनियादी भूमिका निभाता है।



Comments

Popular posts from this blog

रिजवान की मौत में आया नया मोड फैमिली डाक्टर अब्दुल हकीम ने बताया

टांडा कोतवाली क्षेत्र में रिजवान की मौत में आया नया मोड फैमिली डाक्टर अब्दुल हकीम ने बताया की 18अप्रैल को रिजवान की फुफी ने बताया की बाइक से गिरने से लगी है चोट जिसकी जिला अस्पताल में इलाज के दौरान  संदिग्ध  परिस्थितियों  में  हुई  22 वर्षीय युवक  के   मृत्यु  के   मामले  में मृतक के  पिता ने पुलिस की पिटाई के कारण मृत्यु होना बता कर पुलिस के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की तहरीर दिया है। 

मौके का पुलिस अधीक्षक आलोक प्रियदर्शीएवं अपर पुलिस अधीक्षक अवनीश कुमार मिश्र ने निरीक्षण कर  जांचोपरांत कार्यवाही का आश्वासन दिया। पुलिस ने जहाँ पुलिस द्वारा  मारना पीटना बताया गया है ।उस घटनास्थल के आस पास लगे सीसी कैमरे  के फुटेज का निरीक्षण किया ।जिसमें किसी भी प्रकार की मार पीट की घटना दिखाई नही दे रही है । बैरहाल पुलिस हर बिंदुओं पर जांच कर रही है। शव का पोस्टमार्टम होने के बाद सुरक्षा व्यवस्था के बीच शव को मृतक के परिजनों को सौंप दिया गया। जिसके बाद बाद नमाज मगरिब शव को सलार गढ़ कब्रिस्तान में सुपुर्द ए खाक कर दिया गया। प्रशासन द्वारा सुपुर्द ए खाक में सीमित ही लोगों को जाने की अनुमति दी गई। इस मौके …

टाण्डा तहसील के शहर के नेहरू नगर मे 5 साल की बच्ची तृषा की रिपोर्ट आई पाज़िटिव

टाण्डा तहसील के नेहरू नगर में एक 5 साल की बच्ची तृषा पुत्री दिनेश कनौजिया करोना पाज़िटिव आई है। यह लोग मुंबई से चलकर इलाहाबाद आए थे ट्रेन से ।वहां से बस के द्वारा अकबरपुर आए थे। बच्ची को बुखार था प्राथमिक की स्क्रीनिंग में बच्चे को वहीं पर कोरंटाइन करा दिया गया था यह लोग 24 तारीख को यहां पर आए थे मौके पर टाण्डा एसडीएम अभिषेक पाठक व टाण्डा सीओ अमर बहादुर पहुंच कर एरिया को किया सील और लोगों से दूरी बनाने की अपील किया उसके बाद सीलिंग की कार्रवाई प्रारंभ होगी




यूपी के टॉप मोस्ट अपराधियों की बनाई गई लिस्ट

यूपी के टॉप मोस्ट अपराधियों की बनाई गई लिस्ट.

डीजीपी मुख्यालय ने बनाई 33 टॉप मोस्ट अपराधियों की लिस्ट.
लिस्ट में मुख्तार अंसारी, अतीक अहमद, ब्रजेश सिंह समेत 33 अपराधियों के नाम.

उत्तर प्रदेश में फिर शुरू होगा ऑपरेशन  क्लीन