Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Classic Header

{fbt_classic_header}

Breaking News

latest

बागपत जनपद के रमाला थाना क्षेत्र में लगभग साढ़े चार साल पहले मुठभेड़

बागपत जनपद के रमाला थाना क्षेत्र में लगभग  साढ़े चार साल पहले मुठभेड़  के दौरान तत्कालीन एसपी रवि शंकर छवि व अन्य पुलिसवालों पर फायरिं...




बागपत जनपद के रमाला थाना क्षेत्र में लगभग  साढ़े चार साल पहले मुठभेड़  के दौरान तत्कालीन एसपी रवि शंकर छवि व अन्य पुलिसवालों पर फायरिंग करने के मुकदमे में कुख्यात आकाश जाट को सात साल व उसके साथी अमित उर्फ भूरा को अदालत ने तीन साल की सजा से दंडित किया। आकाश जाट शातिर अपराधी है जो शासन की टॉप-20 माफिया की सूची में शामिल है और वर्तमान में गाजियाबाद जिला कारागार में बंद है।


बागपत जनपद के तत्कालीन पुलिस अधीक्षक रवि शंकर छवि ने तत्कालीन सीओ एनपी सिंह व रमाला थाना प्रभारी समय सिंह, क्राइम ब्रांच की टीम के साथ 15 नवंबर 2015 की रात रमाला गांव के पास बदमाशों को पकड़ने के लिए घेराबंदी की थी। 50 हजार रुपये के इनामी आकाश जाट निवासी नंदूपुरा, शामली जनपद ने अपने साथी अमित उर्फ भूरा निवासी ग्राम किरठल के साथ पुलिस पर फायरिंग कर दी थी। इस दौरान रवि शंकर छवि व गनर नरेश कुमार की बुलेट प्रूफ जैकेट में गोली लगी थी। अन्य पुलिसकर्मी गोली लगने से बाल-बाल बचे थे। पुलिस ने  दोनों बदमाशों को गिरफ्तार कर उनके के पास से दो पिस्टल व स्विफ्ट कार बरामद हुई थी। एसपी ने रमाला थाने पर जानलेवा हमले व आर्म्स एक्स के तहत मुकदमा दर्ज कराया था। यह मुकदमा एडीजे चतुर्थ आबिद शमीम की अदालत में चल रहा था।  वादी एसपी रवि शंकर छवि व पांच अन्य गवाह एसआइ राजेंद्र सिंह, महेंद्र सिंह गौतम, हेड कांस्टेबल नरेश कुमार, कांस्टेबल किरणपाल व नीरज अत्री की अदालत में गवाही हुई। अदालत ने आकाश जाट को सात साल व अमित को तीन साल की सजा सुनाई तथा 1500-1500 रुपये का अर्थदंड लगाया। जुर्माना न देने पर 15-15 दिन की अतिरिक्त सजा भुगतनी होगी।




रिपोर्ट वीरेंद्र तोमर बागपत




No comments