Skip to main content

जिला अस्पताल में मोबाइल के टार्च की रोशनी में हो रहा मरीजो का इलाज


कोरोना वायरस से निपटने के लिए प्रदेश के अस्पतालों में हाईटेक व्यवस्था करने का दम भरा जा रहा है। लेकिन अस्पतालों में पॉवर बैकअप जैसी बुनियादी सुविधाएं तक नहीं मौजूद है। ऐसी ही एक सच्चाई यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या के गृह जनपद कौशाम्बी के जिला अस्पताल में भी सामने आई है। जहां अस्पताल का ट्रांसफार्मर जल जाने की वजह से अस्पताल परिसर में अंधेरा फैला रहा। जिसकी वजह से जिला अस्पताल में काफी देर तक मोबाइल की रोशनी में मरीजों का इलाज होता रहा। वही इस पूरे मामले में जिले के आलाधिकारी कुछ भी बोलने से कतरा रहे है।

जनपद मुख्यालय मंझनपुर में 100 बेड का जिला अस्पताल बना हुआ है। जिला अस्पताल में मंगलवार को दोपहर के समय अचानक ट्रांसफार्मर जल गया। जिसकी वजह से मरीजो को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। जिला अस्पताल में पावर बैकअप की भी व्यवस्था है। यहाँ हॉवी जनरेटर सेट के साथ ही के यूपीएस की भी व्यवस्था की गई है। लेकिन लापरवाही के चलते बिजली जाते ही पूरी व्यवस्था ठप्प पड़ जाती है। यहाँ की सच्चाई यह है कि लाइट जाने के बाद जनरेटर कब चलेगा इसकी किसी को नहीं पता है। हद तो तब हो गई जब पश्चिम शरीरा थाना क्षेत्र के डिढ़वा गांव के रहने वाले रामसिंह का इलाज मोबाइल की रोशनी में होता दिखा। रामसिंह के परिजन रामभजन के मुताबिक रामसिंह गोराजू अपनी बहन के यहाँ जा रहे थे तभी गांव के बाहर ही साइकिल से गिरकर उनका पैर फैक्चर हो गया है। जिसके बाद वह लोग एम्बुलेंस से उन्हें जिला अस्पताल इलाज करवाने लाये है। लेकिन यहाँ की हालात यह है कि यह लाइट की कोई व्यवस्था नहीं है। जिसके कारण उनके मरीज का इलाज मोबाइल के टार्च की रोशनी में किया जा रहा है। इस बारे में जब हम जिला अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में ड्यूटी पर तैनात डॉ के.के. मिश्रा से बात करने की कोशिश किया तो वह कैमरे के सामने कुछ भी बोलने से इंकार कर दिया। सूत्रों के मुताबिक अस्पताल में डीजल का खेल लंबे समय से चल रहा है। डीजल बचाने के चक्कर में जनरेटर या तो देरी से शुरू किया जाता है, या किया ही नहीं जाता हैं। अस्पताल कर्मचारी डीजल खर्च करते हैं, लेकिन सिर्फ कागजों पर। वही इस पूरे मामले में जिले के आलाधिकारी कुछ भी बोलने से कतरा रहे है। अब सवाल यह उठता है कि जब अस्पताल में मरीजो को लाइट जैसी मूलभूत सुविधाओं के लिए तरसना पड़ेगा तो प्रदेश कोरोना से जंग कैसे जीतेगा।





Comments

Popular posts from this blog

रिजवान की मौत में आया नया मोड फैमिली डाक्टर अब्दुल हकीम ने बताया

टांडा कोतवाली क्षेत्र में रिजवान की मौत में आया नया मोड फैमिली डाक्टर अब्दुल हकीम ने बताया की 18अप्रैल को रिजवान की फुफी ने बताया की बाइक से गिरने से लगी है चोट जिसकी जिला अस्पताल में इलाज के दौरान  संदिग्ध  परिस्थितियों  में  हुई  22 वर्षीय युवक  के   मृत्यु  के   मामले  में मृतक के  पिता ने पुलिस की पिटाई के कारण मृत्यु होना बता कर पुलिस के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की तहरीर दिया है। 

मौके का पुलिस अधीक्षक आलोक प्रियदर्शीएवं अपर पुलिस अधीक्षक अवनीश कुमार मिश्र ने निरीक्षण कर  जांचोपरांत कार्यवाही का आश्वासन दिया। पुलिस ने जहाँ पुलिस द्वारा  मारना पीटना बताया गया है ।उस घटनास्थल के आस पास लगे सीसी कैमरे  के फुटेज का निरीक्षण किया ।जिसमें किसी भी प्रकार की मार पीट की घटना दिखाई नही दे रही है । बैरहाल पुलिस हर बिंदुओं पर जांच कर रही है। शव का पोस्टमार्टम होने के बाद सुरक्षा व्यवस्था के बीच शव को मृतक के परिजनों को सौंप दिया गया। जिसके बाद बाद नमाज मगरिब शव को सलार गढ़ कब्रिस्तान में सुपुर्द ए खाक कर दिया गया। प्रशासन द्वारा सुपुर्द ए खाक में सीमित ही लोगों को जाने की अनुमति दी गई। इस मौके …

टाण्डा तहसील के शहर के नेहरू नगर मे 5 साल की बच्ची तृषा की रिपोर्ट आई पाज़िटिव

टाण्डा तहसील के नेहरू नगर में एक 5 साल की बच्ची तृषा पुत्री दिनेश कनौजिया करोना पाज़िटिव आई है। यह लोग मुंबई से चलकर इलाहाबाद आए थे ट्रेन से ।वहां से बस के द्वारा अकबरपुर आए थे। बच्ची को बुखार था प्राथमिक की स्क्रीनिंग में बच्चे को वहीं पर कोरंटाइन करा दिया गया था यह लोग 24 तारीख को यहां पर आए थे मौके पर टाण्डा एसडीएम अभिषेक पाठक व टाण्डा सीओ अमर बहादुर पहुंच कर एरिया को किया सील और लोगों से दूरी बनाने की अपील किया उसके बाद सीलिंग की कार्रवाई प्रारंभ होगी




यूपी के टॉप मोस्ट अपराधियों की बनाई गई लिस्ट

यूपी के टॉप मोस्ट अपराधियों की बनाई गई लिस्ट.

डीजीपी मुख्यालय ने बनाई 33 टॉप मोस्ट अपराधियों की लिस्ट.
लिस्ट में मुख्तार अंसारी, अतीक अहमद, ब्रजेश सिंह समेत 33 अपराधियों के नाम.

उत्तर प्रदेश में फिर शुरू होगा ऑपरेशन  क्लीन